BJP के लिए बुरी खबर, NRC की सूची जारी होते ही JDU ने दिया ये बड़ा बयान

पीएम नरेंद्र मोदी सरकार ने पहले जम्मू-कश्मीर से धारा 370 को समाप्त किया और अब असम में एनआरसी की अंतिम सूची जारी की। सरकार के इन फैसलों से विपक्षी दलों के नेता नाराज हैं। अब सुप्रीम कोर्ट ने भी अनुच्छेद 370 पर सुनवाई करने का फैसला किया है। आपको बता दें कि उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, फारूक अब्दुल्ला, भारत के कांग्रेस नेता राहुल गांधी, जैसे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान जैसे कई बड़े दिग्गज भारतीय जनता द्वारा लिए गए फैसले का विरोध करते हैं धारा 370 पर पार्टी सरकार। लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला।

जबकि असम एनआरसी सूची में 3.11 करोड़ लोगों के नाम शामिल हैं, लगभग 19 लाख लोग इस सूची से बाहर हैं। हैरानी की बात यह है कि इस सूची में उन लोगों के नाम भी शामिल हैं, जिन्होंने कोई दावा नहीं किया था। कई नेताओं ने NRC पर अपनी नाराजगी व्यक्त की है जिसमें ममता बनर्जी, असदुद्दीन ओवैसी जैसे दिग्गज शामिल हैं। खुद भाजपा नेता हिमंत बिस्वा सरमा ने NRC को दोषपूर्ण बताया।

बीजेपी के लिए बुरी खबर

एनआरसी सूची जारी होते ही भाजपा के लिए बुरी खबर आई है। बीजेपी की सहयोगी जेडीयू ने भी असम एनआरसी पर नाराजगी जताई है। जेडीयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने एक बड़े बयान में कहा, "एनआरसी की अंतिम सूची ने लाखों विदेशियों को अपने देश में बना लिया है। जब राजनीतिक दिखावे और भाषण कला रणनीति पर ध्यान दिए बिना राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित जटिल मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करते हैं।" चुनौतियों को गलती से हल के रूप में लिए बिना, जनता को कीमत चुकानी होगी। "

Related News

Leave a Comment