कांग्रेस नेता फैसल लाला समेत सैकड़ो लोगों को पुलिस ने किया गिरफ़्तार

रामपुर। कांग्रेस नेता फैसल खान लाला और मतीउर रहमान खान के नेतृत्व में पिछली सपा सरकार में मंत्री रहे आजम खां के जुल्मों का शिकार हुए हज़ारों लोगों ने रामपुर में आज अखिलेश यादव को आज़म के ज़ुल्मों के खिलाफ ज्ञापन सौंपना चाहा लेकिन अखिलेश यादव ने पीड़ित लोगों की फरियाद सुनने से साफ इंकार कर दिया और वह चोरों की तरह रास्ता बदलकर हमसफर रिज़ोर्ट चले गए।

जिसके बाद अखिलेश का घेराव करने पीड़ित परिवार हमसफर रिज़ोर्ट की तरफ मार्च करने के लिए बढे तो पुलिस ने बुज़ुर्ग महिला शहज़ादी बेग़म सहित सैकड़ो बच्चों महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया, उत्तेजित पीड़ित परिवारों ने यतीमखाना रामपुर पब्लिक स्कूल पर काले झंडे लहराए जिसपर वहां मौजूद बड़ी संख्या में पुलिस पीएससी से पीड़ितों की नोक झोंक हुई पीड़ित लोगो ने अखिलेश-आज़म के खिलाफ जम के नारेबाजी की।

पीड़ितों की अगुवाई कर रहे कांग्रेस नेता फैसल खान लाला ने कहा कि यह रामपुर के इतिहास का काला दिन है जहां एक अपराधी को छोड़कर शिकायत करने वाले मज़लूमों को ही गिराफ्तार कर लिया गया कहा आजम खां द्वारा सताए गए पीड़ितों की शिकायतों पर रामपुर ज़िला प्रशासन ने मुकदमे तो दर्ज कर लिए हैं लेकिन उन्हें गिरफ़्तार नही कर रहा जिससे साफ होता है कि प्रशासन आज़म खान से मिला हुआ है और जनता को दिखाने को नूरा कुश्ती कर रहा है, बेहद संगीन धाराओं में लगभग 80 से ज़्यादा मुकदमें दर्ज होने के बाद कोर्ट के वारंटी अपराधी को बचाने के लिए अखिलेश यादव का सड़कों पर उतरना न सिर्फ कोर्ट की अवमानना है बल्कि बेहद शर्मनाक भी है।

उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का आजम खां के द्वारा सताए गए पीड़ितों से न मिलना यह दर्शाता है कि समाजवादी पार्टी आजम खां के काले कारनामों पर पर्दा डालना चाहती है और मुसलमानों के नाम पर झूठ की राजनीति करती है।

फैसल लाला ने कहा कि हमने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से पीड़ित परिवारों के साथ मिलकर ज्ञापन देने का आग्रह किया था लेकिन उन्होंने ज्ञापन नहीं लिया, अखिलेश यादव का एक चोर के समर्थन में दो दिन तक रामपुर में रूकना सवालों के घेरे में है और इस बात से इंकार नही किया जा सकता कि हाशिये पर पड़ी समाजवादी पार्टी अब एक चोर, भूमाफिया आज़म के बहाने प्रदेश को सांप्रदायिकता की आग में झोककर दंगा कराना चाहती है। लेकिन उनको नापाक मंसूबों में कामयाब नही होने दिया जाएगा। कहा जब तक अखिलेश यादव रामपुर में हैं लोग होशियार रहे आज़म खा अपने आपको बचाने के लिए किसी भी हद तक गिर सकते हैं और रामपुर में कोई भी घटिया हरकत कराकर दंगा भड़का सकते हैं।

इस मौके पर सैकड़ों की तादाद में पीड़ितो को गिरफ़्तार कर लिया गया पुलिस और पीड़ितों के बीच ज़बरदस्त विरोध प्रदर्शन और नोक झोंक हुई।

Related News

Leave a Comment