राजस्थान आवासन मंडल के तीन मकानों की दवा विक्रेता ने खरबों में लगाई बोली, गलती का हुआ अहसास तो पैरों तले खिसक गई जमीन

जयपुर। राजस्थान आवासन मंडल की ओर से प्रदेश के 42 शहरों की 50 आवासी योजना में चलाई जा रही थी ई आक्शन योजना के तहत आवेदकों ने दुनिया के सबसे महंगे आवासों के रूप में लगाई है

राजस्थान कांग्रेस में पड़ी फूट, इस बात को लेकर कांग्रेस का ये दिग्गज नेता करेगा गहलोत की सोनिया से शिकायत

मंडल सूत्रों के अनुसार जयपुर शहर के प्रतापनगर आवास योजना के मकान नंबर 101/38 एवं 110A/33 आवासों के लिए आवेदकों ने 1खरब से ऊपर की बोली लगाई है इसमें 101/38 के लिए प्रताप नगर के ही एक दवा विक्रेता संजय आचार्य ने एक खरब 32 अरब 26 करोड़ 97 लाख 11 हजार चार सौ रुपए एवं 110A/33 आवास के लिए 1 खरब 38 अरब 41 लाख 63 हजार 758 रुपए लगाई है के चलते मंडल अधिकारियों की भी नींद उड़ी हुई है ।

अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दे दिए ऐसे निर्देश जिससे जनता को जल्द मिल सकेगा बजट घोषणाओं का लाभ

मंडल आयुक्त पवन अरोड़ा ने बताया कि ई आक्शन योजना ऑनलाइन है इसके चलते किसी आवेदक ने गलती से यह राशि भर दी है अब उसको संशोधित किया जाएगा माना जा रहा है कि नियमानुसार अधिकतम बोली दाता को आवास का आवंटन किया जाता है और अभी तक आवाज नहीं लेने की स्थिति में उसकी ओर से जमा कराई गई राशि जप्त कर ली जाएगी इसके अलावा दूसरे नंबर के आवेदक को भी मकान का मौका नहीं मिल सकेगा प्रताप नगर व्रत कार्यालय से इस संबंध में मुख्यालय को रिपोर्ट भेजी है रिपोर्ट को लेकर मंडल अधिकारियों में मशक्कत चल रही है कि आखिर नियमों के तहत इसमें क्या किया जा सकता है।

Related News

Leave a Comment