ये हैं देश के पहले पुरुष बेली डांसर एहसान, मिलते थे ऐसे ताने

एहसान हिलाल जब 5 साल के थे तब टीवी पर पाकीज़ा फ़िल्म का 'चलते-चलते' गाना सुनते ही सोफ़े से भागते हुए टीवी के सामने पहुंच जाते थे और मीना कुमारी के अंदाज़ की नक़ल करने की कोशिश करते थे। बचपन था इसलिए घर वाले एहसान के डांस की तारीफ़ करते, उन्हें नाचता देख ख़ुश होते थे. लेकिन जैसे-जैसे उम्र बढ़ती गई एहसान को नाचता देख घरवालों के हाव-भाव बदलने लगे. चेहरे की झुंझलाहट शारीरिक हिंसा और ताने में बदल गई।

द बेटर इंडिया से बातचीत में एहसान ने बताया कि मेरे बैठने, चलने और हाव-भाव की वजह से मुझे मारा गया. घरवालों और दोस्तों से मिले तानों से मुझे लगने लगा कि मेरे भीतर ही कुछ बुराई है। आज 25 साल की उम्र में एहसान हिलाल को देश का पहला पेशेवर पुरुष बेली डांसर माना जाता है. पहली बार उनको प्रसिद्धी साल 2017 में मिली जब उन्होंने एक डांस शो पर स्कर्ट पहन कर बेली डांस किया था।

एहसान को अभिनेत्रियों के चेहरे के हाव-भाव की नकल करना पसंद था. बड़ी छोटी उम्र में एहसान को अपनी मंज़िल का पता चल गया था। एहसान को कभी भी परिवार का साथ नहीं मिला. उनको अपमानित करने के लिए हिजड़ा, वैश्या जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया जाता था. तमाम हिकारत के बाद भी एहसान क्लासिक डांस करते रहें. कथक डांस सीखने के लिए उन्होंने पैसे भी बचाए, मां को पता चला तो फिर घर में पिटाई हुई। 

Related News

Leave a Comment