बीमारियों में कारगर हथियार हैं उपवास

इंटरनेट न्यूज आधुनिक जीवनशैली मे स्वस्थ रहने के लिए उपवास एक औषधी के रुप में माना जाता हैं। दुनियाभर के हर संस्कृतियों में उपवास रखा जाता है। हर जगह इसके मायने भी अलग अलग होते हैं।लोग इसे धर्म और तीज-त्योहारों का हिस्सा मानते है, लेकिन वैज्ञानिक उपवास को बीमारियों के खिलाफ कारगर हथियार के रुप में देखता है। शुरू में उपवास करने से शरीर परेशान होता है, लेकिन वक्त के साथ उसे भूखे पेट रहने की आदत पड़ जाती है। 12 घंटे तक कुछ न खाने वाले लोगों के शरीर में ऑटोफागी नाम की सफाई प्रक्रिया शुरू होती हैं।जो कि बेकार की कोशिकाओं को शरीर से अपने आप साफ करने लगती हैं । भूख और उपवास नई कोशिकाओं के निर्माण में बेहद फायदेमंद है। ऑटोफागी एक ग्रीक शब्द हैं। जिसका अर्थस्वयं का भक्षण करना यानि स्वयं को खा लेना। यह एक ऐसी सामान्य मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया है जो शरीर में कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए जिम्मेदार होती है।

उपवास से जीवन लंबा होने के साथ डायबिटीज और कैंसर जैसी बीमारियों के खतरे को कम कर करती हैं। लेकिन उपवास का बुढ़ापे पर कोई असर नहीं दिखाती हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार बुढ़ापे की परेशानियां एक प्राकृतिक प्रक्रिया हैं।

Related News

Leave a Comment