पूर्व वित मंत्री अरूण जेटली का निधन, कैंसर के कारण लम्बे समय चले रहे थे बीमार

पूर्व वित मंत्री अरूण जेटली का निधन, कैंसर के कारण लम्बे समय चले रहे थे बीमार
इंटरनेट डेस्क।
पूर्व वित मंत्री अरूण जेटली का शनिवार को दिल्ली के एम्स में आखिरी सांस ली। अरूण जेटली पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पिछले कार्यकाल में भी वित मंत्री के रूप में कार्य किया था।

अरूण जेटली के निधन से भाजपा में शोक की लहर छा गई है। अरूण जेटली को आर्थिक व्यवस्था की सुचारू रूप से चलाने की जिम्मेदारी थी। मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल के समय नोटबंदी और जीएसटी के समय आर्थिक व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी निभाने का कार्य भी अरूण जेटली के द्वारा बेखूबी ढंग से किया गया था। जेटली के निधन को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह ने ट्वीटर के माध्यम से शोक व्यक्त किया।

Jaitleyji will always be remembered for pulling the economy out of the gloom and putting it back on the right track.

The BJP will miss Arunjis presence. I extend my heartfelt condolences to his bereaved family.

— Rajnath Singh (@rajnathsingh) August 24, 2019

अरूण जेटली 66 वर्ष के थे। शनिवार को दोपहर 12 बजकर 7 मिनट पर उन्होंने अंतिम सांसे ली। जेटली किडनी ट्रांसप्लांट भी करवा चुके थे। सांस लेने में तकलीफ होने के बाद जेटली 9 अगस्त को एम्स में भर्ती हो गएं थे। जेटली का साफॅट टिश्यू कैंसर का इलाज का चल रहा था। इस बीमारी के चलते इलाज के लिए न्यूयाॅर्क भी चले गएं थे।


अरूण जेटली कभी लोकसभा चुनाव जीतकर संसद में नहीं पहुंचे, लेकिन वह अटलबिहारी वाजपेयी की सरकार हो या नरेन्द्र मोदी की सरकार वे हमेशा प्रधानमंत्री के भरोसेमंद मंत्रियों में गिने जाते थे। वे अध्ययनशील थे देश-समाज के उत्थान के चिंता करने वाले थे। अरूण जेटली में नेतृत्व का उदय जयप्रकाश नारायण के सम्पूर्ण क्रांति आंदोलन से हुआ था। छात्र जीवन में ही भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष करने वाले अरूण जेटली ने वित मंत्रालय, काॅर्पोरेट मामले के मंत्रालय, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, कानून मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय भी संभाला। वे जहां भी रहे सरहना हासिल करते रहे।

Related News

Leave a Comment