सेहत बनाने में मददगार है गुड़मार

इंटरनेट न्यूज आयुर्वेद में गुड़मार को संजीवनी कहा जाता हैं।क्योंकि गुड़मार की हरी पत्तियों को चबाने या पत्तियों के सूखे पाउडर को आधे चम्मच पानी के साथ लेने से खून में शुगर का स्तर कम होता हैं जिससे इंसुलिन बनने की क्षमता बढ जाती हैं।यह आंतों में शुगर के अवशोषण को कम करता हैं। इसीलिए इसे मधुनाशिनी कहते हैं।

गुड़मार शरीर में मौजुद मेटाबाँलिज्म को सुधार कर शरीर में वसा के जमाव को रोक कर वजन कम करता हैं।

संक्रमण रोधी हैं गुड़मार:

गुड़मार में मौजूद तत्त्व शरीर के विषाणुओं से लड़कर रोगों की आशंका को घटा देता हैं।

ऐसे करें प्रयोग :

मधुमेह रोग में गुड़मार की 2-3 हरी पत्तियों को चबाकर ऊपर से पानी पी लें या 2-4 ग्राम सूखी पत्तियों का पाउडर जरूरत के अनुसार सुबह-शाम ले सकते हैं।

चेतावनी:

विशेषज्ञ की सलाह से ही इसका उपयोग करें।

Related News

Leave a Comment