जम्मू-कश्मीर में कल जुमे की नमाज के लिए व्यापक इंतजाम

एसपी मित्तल 
5 अगस्त को अनुच्छेद 370 में बदलाव करने के बाद केन्द्र शासित जम्मू कश्मीर में 9 अगस्त को पहला अवसर होगा, जब जुम्मे की नमाज होगी। अब तक रिकॉर्ड रहा है कि छोटी छोटी घटनाओं पर जुम्मे की नमाज के बाद सड़कों पर पत्थरबाजी और पाकिस्तान के झंडे लहराए जाते रहे, लेकिन 9 अगस्त को ऐसी घटनाओं की पुनर्रावृत्ति नहीं हो, इसके लिए राज्यपाल सत्यपाल मलिक और सुरक्षा बलों ने व्यापक इंतजाम किए हैं।

हालांकि 4 अगस्त से ही जम्मू में इंटरनेट सेवाएं और मोबाइल बंद हैं तथा धारा 144 लागू हैं, सरकारी दफ्तरों में सामान्य कामकाज हो रहा है। सरकारी अस्पतालों में मरीज भी लगातार इलाज के लिए लोग आ रहे हैं। यानि आशंकाओं को पर ढकलते हुए जम्मू कश्मीर में हालात सामान्य हो रहे हैं। इन्हीं हालातों के मद्देनजर ही 9 अगस्त को मस्जिदों अथवा घरों में नमाज के इंतजाम किए गए हैं।

हालांकि मस्जिदों में भड़काऊ भाषण देने वालों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। सरकार के सूत्रों का कहना है कि 12 अगस्त को ईद-उल-जुहा का पर्व ही उमंग के साथ मनवाया जाएगा। सरकार ने सुरक्षा के जो इंतजाम किए हैं वे कश्मीरियों की हिफाजत के लिए हैं। आतंकियों को भेजकर पाकिस्तान जम्मू कश्मीर के हालात बिगाडऩे की फिराक में हैं। पाकिस्तान ने सीमा पर तनावपूर्ण हालात कर दिए हैं।

युवाओं को रोजगार चाहिए

8 अगस्त को भी मीडिया कार्मियों ने जम्मू कश्मीर के हालातों का जायजा लिया सभी कश्मीरी युवाओं का कहना रहा कि भले ही इसे विशेष राज्य का दर्जा मिला हुआ था, लेकिन हमें कोई फायदा नहीं हुआ। बेरोजगारी की वजह से भुखमारी है तथा ग्रामीण क्षेत्रों में लाइट तक नहीं है। अब 370 में बदलाव के बाद हमें रोजगार मिलता और विकास होता है तो इससे बढिय़ा कोई बात नहीं हो सकती। तब हमारी कोई सुनने वाला नहीं था, लेकिन अब लगता है कि हमारी समस्याओं का समाधान होगा।

Related News

Leave a Comment