शेयर बाजार के 15 साल के इतिहास में सबसे खराब रहा जुलाई का महीना

इंटरनेट डेस्क।मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले बजट के बाद शेयर बाजार में जबरदस्त गिरावट देखने को मिली है। शेयर बाजार के जानकारों के हिसाब से 2019 का जुलाई महीना सबसे खराब रहा है और यह बाजार के लिए 17 सालों में सबसे खराब महा रहा है। इस खराब महीने के कई कारण भी बताये जा रहे हैं।

दो दिन बाद मिला कैफे कॉफी डे के ​मालिक सिद्धार्थ का शव

दुनिया के सर्वश्रेष्ठ CEO की लिस्ट में इन भारतीयों को मिली जगह, देखें पूरी लिस्ट

जुलाई के महीन में सेंसेक्स 4.9 फीसदी टूटकर आठ महीने के निचले स्तर पर तो एनएसई का निफ्टी भी 5.7 फीसदी गिरकर सितंबर के बाद सबसे निचले स्तर पर जा पहुंचा है। अगर शेयर बाजार के इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट की बात करें तो जुलाई 2002 में सेंसेक्स भारी गिरावट देखने को मिली थी।

जुलाई महीने के अंतिम दिन भारतीय शेयर बाजार मजबूती के साथ बंद हुआ था। विश्व भर के बाजार के असर और सरकार के कुछ फैसलों के कारण यह गिरावट देखने को मिली है।

Related News

Leave a Comment