ताक पर कानून, यूं हो रहा बेदर्द भीड़ का इंसाफ

मुरादाबाद (इफ्तखार अर्शी)। डीजीपी से लेकर आईजी की बच्चा चोरी की अफवाहों पर अंकुश लगाने और कानून हाथ में नहीं लेने की अपील अवाम पर बेअसर नजर आ रही है। कानून ताक पर रखकर भीड़ खुद मुंसिफ बनने लगी है। सोमवार को बच्चा चोरी के शक में जहां भीड़ ने 2 लोगों को जमकर पीटा /

वहीं ई- रिक्शा चालक को रस्सी से बांधकर पीटा गया। इन अफवाहों को रोकने की जिम्मेदारी जिन डिजिटल वॉलिंटियर्स को सौंपी गई थी उनमें एक खुद पुलिस के वालंटियर ग्रुप में बेदर्दी से कत्ल का वीडियो वायरल करने के इल्जाम में गिरफ्तार किया गया।

ठाकुरद्वारा में बिजलीघर के नजदीक यह घटना पेश आई है। सोमवार को वार्ड 20 निवासी 14 वर्षीय बालक सुहेल अहमद पुत्र अहमद अली के शोर मचाने पर भीड़ ने दो लोगों को पकड़ लिया। इसके बाद भीड़ ने दोनों की जमकर पिटाई की। आतताई भीड़ में बंद शामिल युवक एक दूसरे को पुलिस को फ़ोन कॉल नहीं करने की नसीहत देते भी सुनाई पड़ रहे हैं। हालांकि इस भीड़ में कुछ समझदार लोग आगे आए और उन्होंने युवकों को बचाने का भी प्रयास किया।

सूचना पर डायल 100 पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों को भीड़ के चंगुल से थोड़ा का हिरासत में ले लिया है। सुहेल का कहना है कि आरोपी उसको बिस्किट खिलाने का लालच देकर अपने साथ ले जाने का प्रयास कर रहे थे। कोतवाल केपी सिंह के अनुसार पूछताछ में आरोपियों ने अपना नाम फारूक अहमद पुत्र अशफाक हुसैन और नासिर हुसैन पुत्र शकूर अहमद निवासी ग्राम शिवलालपुर अमर झंडा थाना आईटीआई काशीपुर उधमसिंह नगर, उत्तराखंड बताया है। पुलिस दोनों से घटना की बाबत पूछताछ कर रही है। फिलहाल पुलिस अपना काम कर रही है, लेकिन वीडियो में बेदर्द भीड़ का इंसाफ कानून व्यवस्था को आईना दिखा रहा है।

बेकसूर के साथ बर्बरता
ठाकुरद्वारा से ई-रिक्शा बुक कर पास के गांव लालापुर पीपलसाना में सामान उतार कर वापस लौट रहे बहेड़ा वाला निवासी बबलू को रास्ते में पीपली घनश्याम गांव के निकट तीन लोगों ने रोक लिया। बकौल बबलू उसके गले पर चाकू रखकर रस्सी से ई रिक्शा में बांध दिया। इसके बाद उसके साथ मारपीट की और जेब में रखें 5000 की नकदी भी निकाल ले गए। चीख-पुकार सुनकर राहगीरों के साथ ग्रामीण पहुंचे तो हमलावर भाग गए। दूसरी तरफ पुलिस का कहना है कि बबलू को रास्ते में रोककर नशेडियो ने जबरन शराब पिलाने का प्रयास किया। उसके इंकार करने पर रिक्शा से बांधकर मारपीट की। कुल मिलाकर बेकसूर बबलू के साथ जो भी हुुुआ, वारदात का यह वीडियो कानून व्यवस्था को आईना दिखा रहा है।

पुलिस वॉलिंटियर निकला अफवाहबाज
डीजीपी ओपी सिंह के आदेश पर अफवाहों पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस थानावार डिजिटल वालंटियर ग्रुप बनाए गए हैं। इनमें व्हाट्सएप ग्रुप पर थाना क्षेत्र के बुद्धिजीवी लोगों को जोड़ा गया है। उनसे अफवाहों को रोकने के साथ क्षेत्र की घटनाओं की त्वरित सूचना के साथ आपराध की जानकारी पुलिस को प्रदान करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उनको किसी घटना की बाबत पुलिस से संपर्क कर पुष्टि का अख्तियर भी दिया गया है । वॉलिंटियर्स की लाइल्मी कहे या फिर पुलिस के चयन में चूक का नतीजा डिजिटल वॉलिंटियर ग्रुप पर सूचनाएं कम वल्गर मैसेज ज्यादा नजर आते हैं। हद तो तब हो गई जब ठाकुरद्वारा कोतवाली के वालंटियर ग्रुप में सुरजन नगर निवासी वालंटियर ने क्रूरता पूर्वक एक युवक के कत्ल का वीडियो शेयर कर डाला। जोकि काफी पुराना होने के साथ ल विदेश में कारित घटना का प्रतीत होता है। इस वीडियो के बाद हरकत में आई पुलिस ने वालंटियर के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की है। कोतवाल के पी सिंह के अनुसार भूपेंद्र सिंह के खिलाफ आईटी एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। हालांकि पुलिस ने अपनी कार्रवाई कर दी लेकिन सवाल उठता है कि अफवाहों के नाजुक दौर में समाज के जिम्मेदार लोग पुलिस का सहयोग करने की बजाय अपनी जिम्मेदारी भूल रहे हैं।

डीजीपी की अपील
डीजीपी ओपी सिंह वीडियो जारी कर अवाम से बच्चा चोरी की अफवाहों पर अंकुश लगाने के साथ लोगों से कानून हाथ में नहीं लेने की अपील कर चुके हैं। अफवाह फैलाने और भीड़ का हिस्सा बनकर शक की बुनियाद पर मारपीट के आरोपियों पर रासुका लगाने की भी चेतावनी दे चुके हैं।

आईजी की नसीहत

आईजी रमित शर्मा पुलिस लाइन में बुद्धिजीवियों की बैठक बुलाकर अफवाहों पर अंकुश लगाने और पुलिस से संपर्क कर घटनाओं की पुष्टि करने की नसीहत कर चुके हैं। दूसरी तरफ उन्होंने भी अमरोहा में सामाजिक लोगों की  बैठक कर अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी है।


Source : upuklive

Related News

Leave a Comment