अरुण जेटली ने ही दिया था 'मोदी है तो मुमकिन है' नारा

भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन से राजनीतिक जगत में शोक व्याप्त हो गया है। इसे भाजपा के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए भी बड़ी व्यक्तिगत क्षति माना जा रहा है।

बता दें कि अरुण जेटली और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच दोस्ती के रिश्ते जगजाहिर रहे हैं। ये अरुण जेटली ही थे, जिन्होंने 'मोदी है तो मुमकिन है' का नारा दिया था।

प्रधानमंत्री मोदी को दिल्ली की राजनीति से रुबरू कराने के साथ ही सरकार चलाने तक हर बार अरुण जेटली उनके सबसे बड़े मददगार के तौर पर उभरे। इतना ही नहीं जब भी पार्टी संकट में दिखी अरुण जेटली सबसे बड़े संकटमोचक के तौर पर सामने आए।

Related News

Leave a Comment