दो से ज्यादा सेविंग्स अकाउंट रखने वाले हो जाएं सावधान!

नई दिल्ली। आपने एक से अधिक बचत खाते (सेविंग्स अकाउंट) कई बैंकों में खुलवा रखे हैं तो आपको नुकसान भी हो सकता है। सबसे बड़ा और गंभीर खतरा और नुकसान इनकम टैक्स विभाग की ओर से हो सकता है। धोखे से एक खाते की भी जानकारी नहीं दे पाये तो इनकम टैक्स उसे चोरी मानकर आपके खिलाफ कार्रवाई कर सकता है।

इसके अलावा यह नुकसान भी  है कि कस्टमर को हर अकाउंट में मिनिमम मंथली एवरेज बैलेंस रखना होता है। सभी बैंकों के रेगुलर सेविंग्स अकाउंट में यह नियम लागू है। ऐसे में जो अकाउंट आप इस्‍तेमाल नहीं कर रहे हैं, उनमें भी एक निश्चित धनराशि को जमा रखना होगा और इस पर ब्‍याज भी 4 से 6 फीसदी के बीच ही मिलेगा।

अगर कम अकांउट होंगे तो जो पैसे आप मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने में लगा रहे हैं, उन्‍हें कहीं और जैसे एफडी, शेयर मार्केट, म्‍युचुअल फंड आदि में इन्‍वेस्‍ट करके ज्‍यादा रिटर्न हासिल किया जा सकता है।

अगर आप सभी सेविंग्‍स अकाउंट में मिनिमम बैलेंस बरकरार नहीं रख पाते हैं तो आपको बैंक के नियमों के मुताबिक तय पेनल्‍टी यानी जुर्माना भरना होता है। वहीं अगर ज्‍यादा वक्‍त तक अमाउंट डिपॉजिट नहीं किया तो पेनल्‍टी बढ़ती जाती है और एक मोटा अमांउट बन जाता है।

Related News

Leave a Comment