मॉब लिंचिंग मामले में अब दोषी को मिलेगा कठोर कारावास, राजस्थान विधानसभा में पारित हुआ विधेयक 

जयपुर। अब मॉब लिंचिंग (भीड़ हत्या) घटनाओं में पीडि़त की मौत पर दोषी को कठोर आजीवन कारावास और एक से पांच लाख रुपए तक के जुर्माना लगाया जाएगा। राजस्थान विधानसभा ने इन घटनाओं पर रोकथाम के लिए मॉब लिंचिंग (भीड़ हत्या) विधेयक सोमवार को ध्वनिमत से पारित कर दिया।

राजस्थान की एक राज्यसभा सीट के लिए उपचुनाव का कार्यक्रम घोषित, कल जारी होगी अधिसूचना

संसदीय कार्यमंत्री शांति कुमार धारीवाल ने मुख्यमंत्री की ओर से सदन में विधेयक प्रस्तुत किया। इसके बाद इस विधेयक पर हुई चर्चा में धारीवाल ने कहा कि राजस्थान ऐसा पहला राज्य है, जहां मॉब लिंचिंग की घटनाओं को रोकने के लिए इस प्रकार का कानून बनाया जा रहा है।

संसदीय कार्यमंत्री शांति कुमार धारीवाल ने कहा कि देश में 2014 के पश्चात् मॉब लिंचिंग के सौ से ज्यादा मामले सामने आए हैं, उनमें से 86 फीसदी राजस्थान के हैं। सबसे शांत माने जाने वाले प्रदेश की पहचान देश में ;मॉब लिंचिंग स्टेट के रूप में होने लगी थी। ऐसा क्यों हो रहा है, जो पहले कभी नहीं हुआ था? प्रदेश के हर नागरिक का सिर शर्म से झुक जाता है जब राजस्थान में मॉब लिंचिंग की घटना होती है।

राजस्थान सरकार ने दुकान एवं वाणिज्यिक संस्थानों को दी ये बड़ी राहत

विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया ने मौजूदा रूप में इस विधेयक का विरोध करते हुए इसे विधानसभा की प्रवर समिति के पास भेजे जाने की सिफारिश की। कटारिया ने कहा कि भावावेश में किसी कानून को इतना सख्त भी नहीं बना देना चाहिए कि लोग जानबूझकर उसकी अवहेलना करने लग जाएं।



Source : rajasthan-khabre

Related News

Leave a Comment