राजस्थान के श्रम राज्यमंत्री टीकाराम जूली के इस फैसले के बाद उपमुख्यमंत्री पायलट के लिए खड़ी हो सकती है ये मुसिबत

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान कांग्रेस में अब ;एक व्यक्ति एक पद सिद्धांत के मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस मामले में कांग्रेस सरकार में मंत्री टीकाराम जूली ने कहा की वो ;एक व्यक्ति एक पद सिद्धांत का पालन करेंगे। उन्होंने आगे यह भी कहा की वो एक पद छोड़ेंगे और इस बारे में पार्टी अध्यक्ष को अवगत कराएंगे।

प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी: जयपुर की इन पंचायतों के पात्र लाभार्थियों के लिए दो दिन लगेंगे विशेष कैम्प

आपकों बता दें की राजस्थान के श्रम राज्य मंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि ;एक व्यक्ति एक पद सिद्धांत का पालन करते हुए वह अलवर जिला कांग्रेस समिति के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देंगे।

टीकाराम जूली ने इस मौके पर कहा कि उनके इस फैसले का लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार से कोई लेना देना नहीं है और इसे कोई अन्य रूप में नहीं देखा जाए। उन्होंने साथ ही कहा की ;मंत्री बनने के बाद मैं जिला कांग्रेस अध्यक्ष पद के साथ न्याय नहीं कर पा रहा हूं। इसलिए मैंने पार्टी के जिलाध्यक्ष पद से इस्तीफा देने का फैसला किया है। मैं इसकी जानकारी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट को दूंगा।

भाजपा नेता राजेंद्र राठौड़ का मुख्यमंत्री पर बड़ा आरोप, सुनेंगे तो चुप नहीं रहेंगे गहलोत...

इधर जूली के इस फैसले का असर पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष पायलट पर देखने को मिलेगा और वो इसलिए की सचिन पायलट इस समय प्रदेश के उपमुख्यमंत्री भी है और प्रदेश कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष भी है। ऐसे में यदी पार्टी में ;एक व्यक्ति एक पद सिद्धांत का मामला चल निकलता है तो पायलट के लिए मुश्किल खड़ी होना तय है।



Source : rajasthan-khabre

Related News

Leave a Comment