इस गांव का नाम है 'रावण', यहां लोग लगाते हैं लंकेश बाबा के जयकारे

मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में इस गांव का नाम रावण है। इस गांव में रावण की अन्य देवताओं के साथ पूजा की जाती है। इतना ही नहीं, इन लोगों के लिए रावण इतने पूजनीय हैं कि ये लोग कोई भी शुभ काम करने से पहले रावण की मूर्ति के सामने दंडवत प्रणाम कर शुरुआत करते हैं। 

इस गांव में धूमधाम से दशहरा मनाया जाता है। लेकिन रावण दहन नहीं होता है। उसकी जगह भंडारा करवाया जाता है। यहां रावण को रावण बाबा के नाम से जाना जाता है। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर इस गांव में रावण को इतनी इज्जत क्यों दी जाती है?

इस गांव के लोगों के बीच एक किंवदंती मशहूर है। कहा जाता है कि पुराने समय में गांव के पास एक पहाड़ी पर एक राक्षस रहता था। इस राक्षस को कोई नहीं हरा पाता था, सिवाय रावण के। कहा जाता है कि जब राक्षस रावण के सामने जाता था, तो उसकी ताकत कम हो जाती थी। इस बात का पता जब गांव वालों को चला, तो उन्होंने गांव में रावण की बड़ी मूर्ति बना दी। जिसके बाद राक्षस गांव में नहीं आया।

इस गांव में रावण काफी पूजनीय है। यहां जब भी कोई नई गाड़ी खरीदता है तो उसपर लंकेश बाबा की जय जरूर लिखवाता है। कहा जाता है कि ऐसा नहीं करने पर गाड़ी का एक्सीडेंट हो जाता है। 

Related News

Leave a Comment