शिक्षा सत्र तो जोर-शोर से हुआ शुरू लेकिन स्कूल खस्ताहाल

शिक्षा सत्र शुरू हो चुका है और शिक्षा सत्र होने के साथ ही स्कूलों में जोर-शोर से प्रवेशोत्सव भी हुआ। बच्चों को गणवेश के साथ किताबें और उन्हे प्रोत्साहित करने के लिए कोई कमी नहीं रखी गई। लेकिन उन स्कूलों में जहां पर विद्यार्थी पढ़ाई करेंगे उन स्कूलों की ओर शासन का ध्यान नहीं गया। आज भी जिले में ऐसे लगभग 342 स्कूल हैं, जिनमें मरम्मत की जरूरत है, लेकिन अब तक इस पर कोई कार्रवाई नहीं की जा सकी है। 

Related News

Leave a Comment