गिलोय के कई फायदे हैं लेकिन इसके नुकसान भी जान लें

गिलोय एक लोकप्रिय पौधा है, जिसका उपयोग आयुर्वेद में कई तरह की शारीरिक समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। आप अब तक इसके बारे में जानते होंगे, लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं, जिन्हें लोग नजरअंदाज करते रहे हैं। इसमें एंटीपीयरेटिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-आर्थ्रिटिक और एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं, जो पाचन समस्याओं, सूजन या सूजन, रक्त शोधन और दर्द जैसी कई स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा दिलाता है। इसका इस्तेमाल अक्सर लोग डेंगू, स्वाइन फ्लू को खत्म करने के लिए भी करते हैं। इसके साथ ही हम आपको इसके कुछ नुकसान भी बताने जा रहे हैं।

कब्ज की समस्या
हालांकि गिलोय पाचन संबंधी स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज में बहुत प्रभावी है लेकिन कभी-कभी यह पेट को भी नुकसान पहुंचाता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप इसका कितना सेवन करते हैं, यह कब्ज पैदा कर सकता है।

पेट से संबंधित रोगों में उपयोग न करें
पेट से संबंधित कोई समस्या होने पर गिलोय का सेवन करने से बचें। गिलोय अपच की समस्या को बढ़ा सकती है। अपच के कारण पेट में दर्द और मरोड़ की शिकायत हो सकती है।

ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित करता है
गिलोय स्वास्थ्य के लिए विभिन्न कारणों से अच्छा है, लेकिन कुछ मामलों में यह उतना ही हानिकारक है। जिन लोगों को रक्त शर्करा के स्तर से संबंधित स्वास्थ्य समस्याएं हैं, उन्हें इस जड़ी बूटी के सेवन से पूरी तरह से बचना चाहिए, क्योंकि यह रक्त शर्करा के स्तर को और भी अधिक प्रभावित कर सकता है। गिलोय रक्त शर्करा के स्तर को काफी कम कर देता है। ऐसी स्थिति में, रक्त में शर्करा का स्तर कम होने के कारण कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा हो सकता है।

स्व - प्रतिरक्षित विकार
शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली को हमेशा मजबूत रखना चाहिए ताकि आप गंभीर बीमारियों से बच सकें। लेकिन जब यह अधिक सक्रिय हो जाता है, तो यह खतरनाक भी है। गिलोय कभी-कभी प्रतिरक्षा प्रणाली को अधिक उत्तेजित कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप ऑटोइम्यून विकार लक्षण जैसे कि ल्यूपस, मल्टीपल स्केलेरोसिस और संधिशोथ होते हैं।

गर्भावस्था
जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान स्तनपान करा रही हैं या स्तनपान करा रही हैं, उन्हें भी गिलोय का सेवन कम करना चाहिए। इससे शरीर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। अगर आपके पास सर्जरी है या सर्जरी है तो भी इसका उपयोग करने से बचें। इससे ब्लड शुगर प्रभावित होता है। ऐसी स्थिति में सर्जरी के घाव को सूखने में काफी समय या समय लग सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि गिलोय का रक्त शर्करा के स्तर पर कुछ अवांछित दुष्प्रभाव होते हैं, जो सर्जरी के दौरान और बाद में रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित कर सकते हैं।

Related News

Leave a Comment