कठोर कानून बनाने के बाद भी मिल रहा महिलाओं को तलाक

हरदोई। भारतीय जनता पार्टी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीन तलाक़ क़ानून लाया गया। पतियों को तीन तलाक देने से पहले सौ बार सोचना पड़े, इसके लिए इसमें सख्त प्रावधान किए गए। मगर इसके बावजूद तीन तलाक़ के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं.

हरदोई के सण्डीला में एक शौहर ने अपनी पत्नी को सिर्फ इसलिए तलाक़ दे दिया कि उसने साथ मे चलने में देरी की। मायके पत्नी को लेने आया। शौहर तलाक़ तलाक़ तलाक़ बोलकर घर से चला गया। पुलिस ने शौहर और उसके परिवार वालों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। तीन तलाक़ कानून बनने के बाद सण्डीला इलाके में यह पहला मामला सामने आया है।

दरअसल सण्डीला कोतवाली इलाके के एक गांव निवासी महिला का कहना है कि उसका निकाह करीब 4 वर्ष पहले कस्बे के सुन्दरियाबाग निवासी नफीस पुत्र दरगाही के साथ हुआ था। महिला के मुताबिक, करीब डेढ़ वर्ष पहले नफीस ने तलाक की धमकी देकर घर से निकाल दिया था। एक महीना पहले दोनों परिवारों में बातचीत के बाद नफीस उसे विदा कराकर ले जाने पर राजी हो गया था।

14 अगस्त को नफीस अपने पिता दरगाही और भाई अनीस के साथ उसे विदा कराने ससुराल पहुंचा। उसके पिता और भाई ने कहा कि आज रुको, सुबह विदा करेंगे। इसी बात से नाराज़ होकर नफीस उसको तीन बार तलाक़ बोलकर वहां से चला गया। पुलिस ने महिला की शिकायत पर शौहर नफीस उसके पिता दरगाही और भाई अनीस के खिलाफ तीन तलाक़ की धारा में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Related News

Leave a Comment