अरशद मदनी की मोहन भागवत से मुलाकात पर अजमेर दरगाह दीवान का बड़ा बयान

नई दिल्ली। जमीयत उलेमा-ए-हिद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी की आरएसएस चीफ मोहन भागवत से मुलाक़ात को अजमेर स्थित विश्व प्रसिद्ध ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह के दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन सकारात्मक कदम बताया है।

इतना ही नहीं उन्होने ये भी कहा कि अगर आरएसएस की तरफ से उन्हे पैगाम मिला तो वह स्वयं भी भागवत से मुलाकात करेंगे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा कि इस्लाम मोहब्बत का पैगाम देता है। इस्लाम में एक-दूसरे का सम्मान और प्यार बांटने की बात कही गई है। उन्होंने कहा कि यदि आरएसएस की तरफ से पैगाम मिला तो वे स्वयं मोहन भागवत से मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि आरएसएस को मुस्लिमों को लेकर अपना नजरिया बदलना चाहिए। इस्लाम सबको साथ लेकर चलने की बात कहता है।


कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के केंद्र सरकार के निर्णय का समर्थन करते हुए उन्होने कहा कि कांग्रेस सहित अन्य राजनीतिक पार्टियों को केवल विरोध के लिए विरोध नहीं करना चाहिए। कुछ मुद्दों पर राजनीति से अलग होकर देशहित की बात भी सोचनी चाहिए।

Related News

Leave a Comment